Blog

गहरी खाई – जब प्यार धोखा देता है -45

मैं शराफत से भी चार पैसे कम सकता था,मगर नहीं मुझे तो नशा भी करना था ना!..& उसके लिए जो पैसे चाहिए थे वो शराफत की कमाई से तो नहीं मिलते.",उसका गला भर आया था & वो 1 बार फिर खिड़की के बाहर देखने लगा. "..मैंने अपने बीवी-बच्चे को बहुत दूँगा पर वो नहीं मिले...इधर-उधर भटकता हुआ यहां पहुँचा...

गहरी खाई – जब प्यार धोखा देता है -44

मग्न का क़ब्ज़ा पा सकता था.",अपनी-2 दलीलें पेश करने के बाद दोनों वकील जज के फैल्से का वेट करने लगे. "मुझे शत्ृजीत सिंग की अग्रिम ज़मानत की अर्ज़ी खारिज करने की कोई मज़बूत वजह नज़र नहीं आती,इस लिए अभी पुलिस उन्हें हिरासत में नहीं ले सकती,लेकिन अदालत उन्हें ये हिदायत देती है की वो पुलिस की करवाई में पूरा...

गहरी खाई – जब प्यार धोखा देता है -43

बन जाता है.",कामिनी अब बहुत तेजी से उछल रही थी,शत्ृजीत उठा & पीछे से अपनी प्रेमिका को जकड़ उसकी बड़ी,मोटी चूचियां को हाथों में भर उसकी कसी चुत का लुत्फ़ उठाने लगा. सवेरे कामिनी की नींद खुली तो उसने देखा की शत्ृजीत सिंग अभी तक वही उसके बगल में सो रहा था.उसने घड़ी देखी,अभी थोड़ा वक्त था & वो...

गहरी खाई – जब प्यार धोखा देता है -42

उसके पीछे से उसकी चुत चाट रहा था,"..ऊवन्न्नह...कारण,डर लग रहा है.कही कोई आ ना जाए." दोनों ने साथ लंच किया था,उसके बाद कारण ने उसे कार में ऐसे गर्मजोशी से चूमा & उसके नाज़ुक अंग दबाए की दोनों बहुत गरम हो गये & उसके ऑफिस चले आए अपनी प्यास बुझाने के लिए,वैसे भी कामिनी आज रात उस से मिल...

गहरी खाई – जब प्यार धोखा देता है -41

गांड पे हाथ कसे जोश में उसका नाम पुकारे जा रही थी.शत्ृजीत ने 1 कुच्छ ज्यादा ही ज़ोर का धक्का मारा,लंड उसकी कोख से टकराया & वो इसे बर्दाश्त नहीं कर पाई-वो सुबकते हुए झाड़ गयी & उसकी चुत किसी नदी की तरह बहने लगी.ठीक उसी वक्त शत्ृजीत ने भी अपने उबलते लावा पे से रोक हटा दी...

गहरी खाई – जब प्यार धोखा देता है -40

रगड़ता हुआ जैसे वो उनपर कुच्छ ढूंढ. रहा था ,"...आआहह...!",कामिनी ने अपनी कमर उछलते हुए ज़ोर की आ भारी,शत्ृजीत ने उसका ग-स्पॉट ढूंढ. कर उसे छेद दिया था.कामिनी को आज तक झड़ने के वक्त ऐसा एहसास नहीं हुआ था,इतना मजा...की बर्दाश्त ही ना हो!उसने शत्ृजीत के हाथ को अलग कर करवट बदल ली & सुबकने लगी. शत्ृजीत उसके पीछे...

गहरी खाई – जब प्यार धोखा देता है -39

निगाहें भी शत्ृजीत के आंडरवेयर से चिपकी हुई थी.आंडरवेयर बहुत ज्यादा फूला हुआ था. शत्ृजीत आगे बढ़ा तो वो भी फौरन उसकी बाँहों में समा गयी.दोनों के लगभग नंगे जिस्म 1 दूसरे से ऐसे चिपके थे की अगर दूर से देखते तो लगता की 1 ही हैं.शत्ृजीत बस कामिनी के बदन को अपने हाथों से मसले जा रहा था...

गहरी खाई – जब प्यार धोखा देता है -38

माथे पे शिकन पड़ गयी. "कामिनी,मुझे पता है की मेरे बारे में तुम क्या सोचती हो..",उसकी आवाज़ संजीदा हो गयी थी,"..लेकिन मैं अपने काम के साथ कभी भी खिलवाड़ नहीं करता.तुम्हें अपना वकील बनाने के पीछे बस 1 ही कारण था-तुम्हारी काबिलियत.",दोनों ने डांस करना बंद कर दिया था मगर कामिनी का 1 हाथ अभी भी उसके कंधे पे...

गहरी खाई – जब प्यार धोखा देता है -37

देखते हुए उसका चेहरा अपनी ओर घुमाया,कामिनी ने उसका हाथ झटका दिया,"..इतना गुस्सा!" "पहले सुन तो लो किसका फोन था..",उसने फिर से उसका चेहरा अपनी तरफ किया,उसका लंड कामिनी की गांड को छू रहा था,"..मेरे अंकल थे फोन पे..उन्होंने कहा था की इस वक्त फोन करेंगे.",कामिनी ने उसकी ओर सवालिया नज़रो से देखा,"..इतनी रात को..?" कारण ने उसके गाल पे...

गहरी खाई – जब प्यार धोखा देता है -36

को उसका ये बार-2 च्छुना कुच्छ अच्छा तो नहीं लगेगा पर कुच्छ था उसके छूने में जिसने उसका दिल धड़का दिया,"..हम मेरे चेंबर में चल के बात करे?" "हाँ,जरूर.",कामिनी आगे चलने लगी तो 1 बार फिर उसे भीड़ से बचाने के बहाने ठुकराल ने उसकी पीठ पे ठीक ब्लाउज के नीचे हाथ रख दिया. "हाँ,अब बोलिए,ठुकराल साहब." "1 उरगेबट केस है...